DR. DAULAT RAM SABIR PANIPATI

(MARHOOM DR. DAULAT RAM SABIR PANIPATI) KI AIK GHAZAL

BANDGI SHAUQ-E-MUNAJAAT PE ITRAA’I HAI
SOORAT-E-HAAL PE SHAITA’N KO HANSI AA’I HAI

UNKE SAUDA-E-MASEEHAA’I PE MARNE KE LIYE
HAM NE HAR HAAL MEIN JEENE KI QASAM KHAA’I HAI

DUKHTAR-E-RAZ HAI HRAAM AUR HAI KAUSAR US PAAR
SHEIKH KE MUNH SE YEH KIS CHEEZ KI BOO AYI HA’I HAI

ISHQ-E-MAJBOOR KI MAUHOOM UMMIDO’N KE TUFAYAL
JULMAT-E-SHAB NE SITARO’N KI ZIYA PAA’I HAI

KASHTI-E-ZEEST NA GARDAB-E-BLAA SE NIKLI
GO KAI BAAR YEH SAHIL SE BHI TAKRAA’I HAI

HAM TO IS DAR KI GADAA’I KE RWAADAAR NA TH’Y
KYA KARE’N SHAAMAT-E-AAMAAL BULA LAA’I HAI

ZOHMAT-E-KOHKANI KA YEH NATEEJA TAUBAA
AASHIQI SEENA-E-FARHAAD MEIN THARRA’I HAI

FOONK DAALENGE YEH GHAR AIK TMAASHA HI SAHI
HAM NE IK AAG DIL-E-ZAAR ME SULGAA’I HAI

MAR GAI AAP GLAA GHONT KE APNA SAABIR
KYA TMNNA THEE JO TADPI HAI NA CHILLA’I HAI

बन्दगी शौक़–ए-मुनाजात पे इतराई है
सूरत-ए-हाल पे शैतां को हंसी आई है

उनके सौदा-ए-मसीहाई पे मरने के लिए
हम ने हर हाल में जीने की क़सम खाई है

दुख्तर-ए-रज़ है हराम, और है कौसर उस पार
शैख के मुँह से यह किस चीज़ कि बू आई है

इश्क-ए-मजबूर की मौहूम उम्मीदों के तुफ़ैल
जुल्मत-ए-शब् ने सितारों कि ज़िया पायी है

कश्ती-ए-ज़ीस्त ना गरदाब-ए-बला से निकली
गो कई बार यह साहिल से भी टकराई है

हम तो इस दर की ग़दाई के रवादार ना थे
क्या करें शामत-ए-आमाल बुला लाई है

ज़ोहमत-ए-कोहकनी का ये नतीजा तौबा
आशिक़ी सीना-ए-फरहाद में थर्राई है

फूंक डालेंगे यह घर एक तमाशा ही सही
हम ने इक आग दिल-ए-ज़ार में सुलगाई है

मर गई आप गला घोंट के अपना “साबिर”
क्या तमन्ना थी जो तड़पी है ना चिल्लाई है

Advertisements

One thought on “DR. DAULAT RAM SABIR PANIPATI

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s