DR. DAULAT RAM SABIR PANIPATI

(MARHOOM DR. DAULAT RAM SABIR PANIPATI) KI AIK GHAZAL

BANDGI SHAUQ-E-MUNAJAAT PE ITRAA’I HAI
SOORAT-E-HAAL PE SHAITA’N KO HANSI AA’I HAI

UNKE SAUDA-E-MASEEHAA’I PE MARNE KE LIYE
HAM NE HAR HAAL MEIN JEENE KI QASAM KHAA’I HAI

DUKHTAR-E-RAZ HAI HRAAM AUR HAI KAUSAR US PAAR
SHEIKH KE MUNH SE YEH KIS CHEEZ KI BOO AYI HA’I HAI

ISHQ-E-MAJBOOR KI MAUHOOM UMMIDO’N KE TUFAYAL
JULMAT-E-SHAB NE SITARO’N KI ZIYA PAA’I HAI

KASHTI-E-ZEEST NA GARDAB-E-BLAA SE NIKLI
GO KAI BAAR YEH SAHIL SE BHI TAKRAA’I HAI

HAM TO IS DAR KI GADAA’I KE RWAADAAR NA TH’Y
KYA KARE’N SHAAMAT-E-AAMAAL BULA LAA’I HAI

ZOHMAT-E-KOHKANI KA YEH NATEEJA TAUBAA
AASHIQI SEENA-E-FARHAAD MEIN THARRA’I HAI

FOONK DAALENGE YEH GHAR AIK TMAASHA HI SAHI
HAM NE IK AAG DIL-E-ZAAR ME SULGAA’I HAI

MAR GAI AAP GLAA GHONT KE APNA SAABIR
KYA TMNNA THEE JO TADPI HAI NA CHILLA’I HAI

बन्दगी शौक़–ए-मुनाजात पे इतराई है
सूरत-ए-हाल पे शैतां को हंसी आई है

उनके सौदा-ए-मसीहाई पे मरने के लिए
हम ने हर हाल में जीने की क़सम खाई है

दुख्तर-ए-रज़ है हराम, और है कौसर उस पार
शैख के मुँह से यह किस चीज़ कि बू आई है

इश्क-ए-मजबूर की मौहूम उम्मीदों के तुफ़ैल
जुल्मत-ए-शब् ने सितारों कि ज़िया पायी है

कश्ती-ए-ज़ीस्त ना गरदाब-ए-बला से निकली
गो कई बार यह साहिल से भी टकराई है

हम तो इस दर की ग़दाई के रवादार ना थे
क्या करें शामत-ए-आमाल बुला लाई है

ज़ोहमत-ए-कोहकनी का ये नतीजा तौबा
आशिक़ी सीना-ए-फरहाद में थर्राई है

फूंक डालेंगे यह घर एक तमाशा ही सही
हम ने इक आग दिल-ए-ज़ार में सुलगाई है

मर गई आप गला घोंट के अपना “साबिर”
क्या तमन्ना थी जो तड़पी है ना चिल्लाई है

One thought on “DR. DAULAT RAM SABIR PANIPATI

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s